सोमवार, अगस्त 16, 2010

राम लक्ष्मण सीता का अंतिम समय ।


राम के अश्वमेघ यज्ञ में नैमिषारण्य में बहुत सुन्दर व्यवस्था की गयी । सीता की सोने की प्रतिमा बनवाई गई । लक्ष्मण को सेना और शुभ लक्षणों से सम्पन्न अश्‍व के साथ विश्‍व भ्रमण के लिये भेजा गया । इस यज्ञ में सम्मिलित होने के लिये महर्षि वाल्मीकि भी लव कुश के साथ आये । उन्होंने लव कुश से कहा । कि वे दोनों भाई नगर में घूमते हुये रामायण का गान करें । और कोई पूछे कि तुम किसके पुत्र हो । तो कहना हम ऋषि वाल्मीकि के शिष्य हैं । लव कुश रामायण का गान करने के लिये चल पड़े । उनके द्वारा भावपूर्ण सीता चरित्र और रामकथा सुनकर अयोध्यावासियों ने यह समाचार राम को बताया । नगरवासियों द्वारा यह बात सुनकर राम ने वाल्मीकि के पास सन्देश भिजवाया । यदि सीता का चरित्र शुद्ध है । तो वे आपकी अनुमति से यहाँ आकर सबके सामने अपनी शुद्धता प्रमाणित करें । और मेरा कलंक दूर करें । तो मुझे बेहद खुशी होगी । वाल्मीकि ने कहा । ऐसा ही होगा । सीता वही करेगीं । जो राम चाहेंगे क्योंकि स्त्री के लिये पति ही परमात्मा होता है । यह खबर मिलते ही राम ने सब ऋषि । मुनियों । नगरवासियों को उस समय उपस्थित रहने के लिये निमन्त्रित किया । दूसरे दिन सीता को देखने के लिये अनेकों ऋषि । मुनि । विद्वान । नागरिक उपस्थित हो गये । निश्‍चित समय पर वाल्मीकि सीता को लेकर आये । आगे वाल्मीकि और उनके पीछे दोनों हाथ जोड़े । आँसू बहाती हुयी सीता आ रही थीं । सीता की दीन दशा देखकर वहाँ उपस्थित सभी लोगों का हृदय दुखी हो गया और वे शोकाकुल होकर आँसू बहाने लगे । वाल्मीकि बोले । श्रीराम । मैं तुम्हें विश्‍वास दिलाता हूँ कि सीता पवित्र है । कुश और लव आपके ही पुत्र हैं । मैं कभी मिथ्या नहीं कहता । यदि मेरा कथन मिथ्या हो । तो मेरी सम्पूर्ण तपस्या निष्फल हो जाय । लेकिन इसके बाद भी देवी सीता स्वयं आपको निर्दोषिता का प्रमाण देगी ।यह बात सुनकर सभा के बीच खड़ी सीता को देखकर राम बोले । हे ऋषिश्रेष्ठ । आपका कथन सत्य है । और मुझे आपकी बात पर पूरा विश्‍वास है । वास्तव में सीता ने अपनी सच्चरित्रता का विश्‍वास मुझे अग्नि के समक्ष ही दिला दिया था । परन्तु लोकापवाद के कारण ही मुझे सीता को त्यागना पड़ा । आप मुझे इस अपराध के लिये क्षमा करें । इसके बाद राम उपस्थित जनसमूह को देखते हुये बोले । हे मुनि एवं उपस्थित सज्जनों । मुझे महर्षि के कथन पर पूर्ण विश्‍वास है । परन्तु यदि सीता स्वयं सबके सामने अपनी शुद्धता का प्रमाण दें तो मुझे अधिक प्रसन्नता होगी । यह सुनकर सीता हाथ जोड़कर सिर झुकाये हुये ही बोलीं । मैंने अपने जीवन में यदि श्रीरघुनाथ के अतिरिक्‍त कभी किसी दूसरे पुरुष का चिन्तन न किया हो तो पृथ्वी देवी अपनी गोद में मुझे स्थान दें । सीता के इतना कहते ही पृथ्वी फटी । उसमें से एक सिंहासन निकला । उसी के साथ पृथ्वी देवी रूप में प्रकट हुईं । उन्होंने सीता को उठाकर प्रेम से सिंहासन पर बैठा लिया । देखते ही देखते सिंहासन पृथ्वी में समा गया । सब लोग भौंचक्के से यह द‍ृश्य देखते रह गये । वातावरण में सन्नाटा छा गया । इस घटना से राम को बहुत दुःख हुआ । उनकी आंखो से आंसू बहने लगे । वह बोले । मैं जानता हूँ । तुम ही सीता की सच्ची माता हो । राजा जनक ने हल जोतते हुये तुमसे ही सीता को पाया था । परन्तु तुम मेरी सीता को मुझे लौटा दो । या मुझे भी अपनी गोद में समा लो । राम को इस प्रकार विलाप करते देख सबने उन्हें सान्त्वना देकर समझाया ।
इस प्रकार सीता के धरती में समाने के बाद राम को राज्य करते हुये बहुत समय हो गया । तब एक दिन काल तपस्वी के वेश में राजद्वार पर आया । उसने कहा । मैं महर्षि अतिबल का दूत हूँ । और अति आवश्यक कार्य से राम से मिलना चाहता हूँ । राम ने उसे तुरन्त बुलाया और बैठने को आसन दिया । तब मुनि वेषधारी काल ने कहा । यह बात अत्यन्त गोपनीय है । यहाँ हम दोनों के अतिरिक्‍त कोई अन्य नहीं होना चाहिये । तब मैं आपको वह बात बता सकता हूँ कि यदि बातचीत के समय कोई व्यक्‍ति आ जाये तो आप उसका वध कर देंगे । यह सुनकर राम ने लक्ष्मण से कहा । तुम इस समय द्वारपाल को हटाकर स्वयं द्वार पर खड़े हो जाओ । ध्यान रहे । इनके जाने तक कोई यहाँ न आ पाये । इस बीच जो भी आयेगा । मेरे द्वारा मारा जायेगा । जब लक्ष्मण चले गये तो राम ने काल से सन्देश सुनाने के लिये कहा । काल बोला । मैं आपकी माया द्वारा उत्पन्न आपका पुत्र काल हूँ । ब्रह्मा जी ने कहलाया है । कि आपने जो प्रतिज्ञा की थी वह पूरी हो गई । अब आपके अपने लोक जाने का समय हो गया है । फ़िर भी आप यहाँ रहना चाहें तो ये आपकी इच्छा है । राम ने कहा । जब मेरा कार्य पूरा हो गया तो फिर मैं यहाँ क्या करूँगा ? मैं शीघ्र ही अपने लोक को लौटूँगा । जब काल इस प्रकार वार्तालाप कर रहा था । उसी समय महल के द्वार पर महर्षि दुर्वासा राम से मिलने आये । और लक्ष्मण से बोले । मुझे अभी राम से मिलना है । देर होने से मेरा काम बिगड़ जायेगा । इसलिये तुम उन्हें तुरन्त मेरे आने की सूचना दो । लक्ष्मण बोले । भैया इस समय अत्यन्त व्यस्त हैं । आप मुझे आज्ञा दें । जो भी कार्य होगा । मैं पूरा करूँगा । यदि उन्हीं से मिलना हो तो थोडी प्रतीक्षा करनी होगी । यह सुनते ही दुर्वासा को क्रोध आ गया । और वह बोले । तुम अभी राम को मेरे आने की सूचना दो । नहीं तो मैं शाप देकर समस्त रघुकुल और अयोध्या को इसी क्षण भस्म कर दूँगा । दुर्वासा की बात सुनकर लक्ष्मण ने सोचा । चाहे मेरी मृत्यु हो जाये । रघुकुल का विनाश नहीं होना चाहिये । यह सोचकर उन्होंने राम के पास जाकर दुर्वासा के आने का समाचार सुनाया । राम काल को विदा कर महर्षि दुर्वासा के पास पहुँचे । उन्हें देखकर दुर्वासा ने कहा । राम । मैंने बहुत समय तक उपवास करके आज इसी समय अपना व्रत खोलने का निश्‍चय किया है । इसलिये तुम्हारे यहाँ जो भी भोजन तैयार हो तुरन्त मँगाओ । राम ने दुर्वासा को भोजन कराकर विदा कर दिया । फिर वे काल कि दिये अपने वचन को यादकर लक्ष्मण से वियोग की आशंका से अत्यन्त दुखी हुये । राम को दुखी देखकर लक्ष्मण बोले । प्रभु । यह तो काल की गति है । आप दुखी न हों । और निश्‍चिन्त होकर मेरा वध करके अपनी प्रतिज्ञा पूरी करें । लक्ष्मण की बात सुनकर राम और भी व्याकुल हो गये । उन्होंने वसिष्ठ तथा मन्त्रियों को बुलाकर उन्हें पूरा वृतान्त सुनाया । यह सुनकर वसिष्ठ बोले । राम । आप सबको शीघ्र ही यह संसार त्याग कर अपने अपने लोकों को जाना है । इसका प्रारम्भ सीता के प्रस्थान से हो चुका है । इसलिये आप लक्ष्मण का त्याग कर अपनी प्रतिज्ञा पूरी करें । प्रतिज्ञा नष्ट होने से धर्म का लोप हो जाता है । साधु पुरुषों का त्याग करना । उनके वध करने के समान ही होता है। वसिष्ठ की बात मानकर राम ने दुखी मन से लक्ष्मण का त्याग कर दिया । लक्ष्मण सरयू के तट पर आये । जल का आचमन कर हाथ जोडे । प्राणवायु को रोका । और अपने प्राण विसर्जन कर दिये । तब शोकाकुल राम ने सबको बुलाकर कहा । अब मैं अयोध्या के सिंहासन पर भरत को बैठाकर स्वयं वन को जाना चाहता हूँ ।यह सुनते ही सब रोने लगे । भरत ने कहा । मैं भी अयोध्या में नहीं रहूँगा । मैं आपके साथ चलूँगा । आप मेरी बजाय कुश और लव का राज्याभिषेक कीजिये । प्रजा भी कहने लगी । हम सब भी आपके साथ ही चलेंगे । तब राम ने विचार करके उन्होंने दक्षिण कौशल का राज्य कुश को । और उत्तर कौशल का राज्य लव को सौंपकर उनका अभिषेक किया । कुश के लिये विन्ध्याचल के किनारे कुशावती । और लव के लिये श्रावस्ती नगर का निर्माण कराया । फिर उन्हें अपनी अपनी राजधानी जाने का आदेश दिया । इसके बाद एक दूत भेजकर मधुपुरी से शत्रघ्न को बुलाया । दूत ने शत्रुघ्न को लक्ष्मण के त्याग । लव कुश के अभिषेक आदि की सभी बातें बताईं । इस घोर हाहाकारी वृतान्त को सुनकर शत्रुघ्न अवाक् रह गये । उन्होंने अपने दोनों पुत्रों सुबाहु और शत्रुघाती को अपना राज्य दे दिया । उन्होंने सबाहु को मथुरा का और शत्रुघाती को विदिशा का राज्य सौंप तुरन्त अयोध्या के लिये प्रस्थान किया । अयोध्या पहुँचकर वे बड़े भाई से बोले । मैं भी आपके साथ जाने के लिये तैयार होकर आ गया हूँ । कृपया मुझे रोकना नहीं । इसी बीच सुग्रीव भी आ गये ।
उन्होंने कहा । मैं अंगद का राज्याभिषेक करके आपके साथ ही जाने के लिये आया हूँ । सुग्रीव की बात सुनकर राम मुस्कुराये । और बोले । बहुत अच्छा । फिर विभीषण से बोले । विभीषण । मैं चाहता हूँ । तुम इस संसार में रहकर लंका में राज्य करो । यह मेरी हार्दिक इच्छा है । आशा है । तुम इसे अस्वीकार नहीं करोगे । भारी मन से विभीषण ने राम का आदेश माना । राम ने हनुमान को भी सदैव पृथ्वी पर रहने की आज्ञा दी । जाम्बवन्त । मैन्द । और द्विविद को द्वापर । तथा कलियुग की सन्धि तक । जीवित रहने का आदेश दिया । अगले दिन सुबह राम ने वसिष्ठ की आज्ञा से महाप्रस्थान हेतु सब तैयारी की । और पीताम्बर धारणकर हाथ में कुशा लेकर राम ने वैदिक मन्त्रों के उच्चारण के साथ सरयू की ओर प्रस्थान किया । वह सूर्य के समान मालूम पड़ रहे थे । उस समय उनके दक्षिण भाग में । साक्षात् लक्ष्मी । वाम भाग में भूदेवी । और उनके समक्ष संहार शक्‍ति चल रही थी । उनके साथ बड़े बड़े ऋषि मुनि और समस्त ब्राह्मण मण्डली थी । वे सब स्वर्ग का द्वार खुला देख उनके साथ दौडे जाते थे । उनके साथ राजमहल के सभी वृद्ध स्त्री पुरुष भी चल रहे थे । भरत व शत्रुघ्न भी अपने अपने रनवासों के साथ श्रीराम के संग संग चल रहे थे । सब मन्त्री तथा सेवक अपने परिवार सहित उनके पीछे थे । उन सबके पीछे मानो सारी अयोध्या ही चल रही थी । रीछ ‌और वानर भी किलकारियाँ मारते । उछलते कूदते । दौड़ते हुये चले जा रहे थे । लेकिन कोई भी दुःखी अथवा उदास नहीं था । इस प्रकार चलते हुये वे सब सरयू के पास पहुँच गये । उसी समय ब्रह्मा सब देवताओं और ऋषियों के साथ वहाँ आ पहुँचे । श्रीराम को स्वर्ग ले जाने के लिये बहुत से सुसज्जित विमान आये थे । उस समय आकाश दिव्य तेज से चमकने लगा । शीतल मंद सुगन्धित वायु बहने लगी । आकाश में गन्धर्व दुन्दुभी बजाने लगे । अप्सराएँ नृत्य करने लगीं । देवता फूल बरसाने लगे । राम ने सब भाइयों और जनसमुदाय के साथ सरयू में प्रवेश किया । तब आकाश से ब्रह्माजी बोले । हे राम । आपका मंगल हो । हे विष्णुरूप रघुनन्दन । आप अपने भाइयों के साथ अपने लोक में प्रवेश करें । चाहें आप विष्णु रूप धारण करें । और चाहें सनातन आकाशमय अव्यक्‍त ब्रह्मरूप रहें । ब्रह्मा की स्तुति सुनकर राम वैष्णवी तेज में प्रविष्ट होकर विष्णुमय हो गये । सब देवता । ऋषि । मुनि । इन्द्र आदि उनकी पूजा करने लगे । यक्ष । किन्नर । अप्सराएँ आदि उनकी स्तुति करने लगे । तभी विष्णुरूप राम ब्रह्मा से बोले । हे सुव्रत । ये जितने भी जीव मेरे साथ आये हैं । ये सब मेरे भक्‍त हैं । इन सबको स्वर्ग में रहने के लिये उत्तम स्थान दीजिये । तब ब्रह्मा ने सबको ब्रह्मलोक के समीप स्थित । संतानक । नामक लोक में भेज दिया । वानर और रीछ आदि जिन देवताओं के अंश से उत्पन्न हुये थे । वे सब उनमें लीन हो गये । सुग्रीव ने सूर्यमण्डल में प्रवेश किया । उस समय जिसने भी सरयू में डुबकी लगाई । वहीं शरीर त्यागकर परमधाम चला गया ।

1 टिप्पणी:

हमारीवाणी.कॉम ने कहा…

क्या आप "हमारीवाणी" के सदस्य हैं? हिंदी ब्लॉग संकलक "हमारीवाणी" में अपना ब्लॉग जोड़ने के लिए सदस्य होना आवश्यक है, सदस्यता ग्रहण करने के उपरान्त आप अपने ब्लॉग का पता (URL) "अपना ब्लाग सुझाये" पर चटका (click) लगा कर हमें भेज सकते हैं.

सदस्यता ग्रहण करने के लिए यहाँ चटका (click) लगाएं.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...